Hindi Islam
Hindi Islam
×

Type to start your search

हदीस

Found 15 Posts

हदीस प्रभा
हदीस प्रभा
28 March 2024
Views: 170

इस्लाम को तफ़सील से समझने और सही मायनों में उसकी पैरवी का हक़ अदा करने के लिए अल्लाह के आख़िरी रसूल हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) के काम और उनकी बातें (कथन) जिन्हें 'हदीस' कहा जाता है, से वाक़िफ़ होना बहुत ज़रूरी है। इसके बिना ख़ुद क़ुरआन मजीद को भी सही ढंग से नहीं समझा जा सकता। क़ुरआन की तरह हदीस की मूल भाषा भी चूंकि अरबी है, और अरबी जानने वाले बहुत थोड़े लोग हैं, अत: बाक़ी सभी लोगों को इस बड़ी नेमत का बोध कराने के लिए इसके सिवा और कोई रास्ता नहीं कि दूसरी ज़बानों में इसका तर्जुमा कराया जाए। यह किताब इसी प्रकार की एक मुबारक कोशिश का नतीजा है। इसमें सैकड़ों उनवानात (शीर्षकों) के तहत ऐसी चुनिंदा हदीसों को मुनासिब ढंग से जमा कर दिया गया है जो इंसान और इंसानी समाज के लगभग सभी पहलुओं को अपने अंदर समेट लेती हैं।

उलूमे-हदीस : आधुनिक काल में (हदीस लेक्चर 12)
उलूमे-हदीस : आधुनिक काल में (हदीस लेक्चर 12)
12 December 2023
Views: 77

इस चर्चा से दो चीज़ें पेश करना मेरा मक़सद है। एक तो इस ग़लतफ़हमी या कम-हिम्मती का खंडन कि इल्मे-हदीस पर जो काम होना था वह अतीत के वर्षों में हो चुका। और आज न इल्मे-हदीस पर किसी नए काम की ज़रूरत है और न कोई नया काम हो रहा है। मुहद्दिसीन के ये कारनामे सुनकर एक ख़याल यह ज़ेहन में आ सकता है कि जितना काम होना था वह हो चुका। जो शोध होना था वह हो चुका। अब और न किसी काम की ज़रूरत है और न किसी शोध की। यह ग़लतफ़हमी दूर हो सकती है अगर संक्षिप्त रूप से यह देख लिया जाए कि आजकल हदीस पर कितना काम हो रहा है और इसमें और किन-किन कामों के करने की संभावनाएँ हैं और क्या-क्या काम आगे हो सकते हैं।

भारतीय उपमहाद्वीप में इल्मे-हदीस (हदीस लेक्चर 11)
भारतीय उपमहाद्वीप में इल्मे-हदीस (हदीस लेक्चर 11)
12 December 2023
Views: 77

भारतीय उपमहाद्वीप में इल्मे-हदीस पर चर्चा की ज़रूरत दो कारणों से है। एक बड़ा कारण तो यह है कि भारतीय उपमहाद्वीप में एक ख़ास दौर में इल्मे-हदीस पर बहुत काम हुआ। यह काम इतने विस्तृत पैमाने पर और इतनी व्यापकता के साथ हुआ कि अरब दुनिया में बहुत-से लोगों ने इसको स्वीकार किया और इसके प्रभाव बड़े पैमाने पर अरब दुनिया में भी महसूस किए गए। मिस्र के एक प्रख्यात इस्लामी विद्वान और बुद्धिजीवी अल्लामा सय्यद रशीद रज़ा ने यह लिखा कि अगर हमारे भाई, भारतीय उपमहाद्वीप के मुसलमान न होते तो शायद इल्मे-हदीस दुनिया से उठ जाता। यह अट्ठारहवीं-उन्नीसवीं शताब्दी की स्थिति का उल्लेख है। भारतीय उपमहाद्वीप के उलमा किराम ने उस दौर में इल्मे-हदीस का पर्चम बुलंद किया जब मुस्लिम जगत् अपनी विभिन्न समस्याओं में उलझा हुआ था।

हदीस और उसकी व्याख्या की किताबें (हदीस लेक्चर 10)
हदीस और उसकी व्याख्या की किताबें (हदीस लेक्चर 10)
12 December 2023
Views: 87

आज की चर्चा में हदीस की कुछ प्रसिद्ध किताबों और उनकी व्याख्याओं का परिचय कराना अभीष्ट है। यह परिचय दो हिस्सों पर सम्मिलित होगा। हदीस की वे बुनियादी किताबें और उनकी वे व्याख्याएँ जो भारतीय उपमहाद्वीप से बाहर लिखी गईं। उनपर आज की बैठक में चर्चा होगी। वे हदीस और व्याख्या की किताबें थीं जिनकी रचना का काम भारतीय उपमहाद्वीप में हुआ उनमें से कुछ एक के बारे में कल बात होगी।

उलूमे-हदीस (हदीसों का ज्ञान)-हदीस लेक्चर 9
उलूमे-हदीस (हदीसों का ज्ञान)-हदीस लेक्चर 9
12 December 2023
Views: 79

आज की वार्ता का शीर्षक है उलूमे-हदीस यानी हदीस के बारे में विस्तृत ज्ञान। आज तक जितनी बहस हुई है इस सब का संबंध एक तरह से उलूमे-हदीस ही से है। ये सब विषय उलूमे-हदीस ही के विषय थे, लेकिन उलूमे-हदीस पर अलग से चर्चा करने की ज़रूरत इस बात पर-ज़ोर देने के लिए पेश आई कि जिन विषयों को उलूमे-हदीस कहते हैं वे एक बहुत बड़ी, एक अनोखी और नई इल्मी रिवायत (ज्ञान संबंधी परम्परा) के विभिन्न हिस्से हैं। यह परम्परा मुसलमानों के अलावा किसी और क़ौम में नहीं पाई जाती। ज्ञान एवं कला के इस मिश्रण को अनगिनत विद्वानों ने अपनी ज़िंदगियाँ क़ुर्बान कर के संकलित किया। और उन तमाम विषयों से संबंधित सामग्री एकत्र की जिसका संबंध परोक्ष या अपरोक्ष रूप से अल्लाह के रसूल (सल्लाहु अलैहि वसल्लम) के हालात, कथनों और व्यक्तित्व से था। उन्होंने इस सामग्री की पड़ताल की और इसको संकलित ढंग से और नित-नई शैलियों में पेश किया।

रुहला और मुहद्दिसीन की सेवाएँ (हदीस लेक्चर-8)
रुहला और मुहद्दिसीन की सेवाएँ (हदीस लेक्चर-8)
12 December 2023
Views: 70

आज की चर्चा का शीर्षक है ‘रेहलत फ़ी तलबिल-हदीस’ यानी “इल्मे-हदीस की प्राप्ति और तदवीन (संकलन) के उद्देश्य से सफ़र।” यों तो ज्ञान प्राप्ति के लिए दूर-दराज़ इलाक़ों का सफ़र करना मुसलमानों की परम्परा का हमेशा ही एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहा, लेकिन इल्मे-हदीस की प्राप्ति की ख़ातिर सफ़र का अपना एक अलग स्थान है। मुहद्दिसीन (हदीस के संकलनकर्ताओं) ने इल्मे-हदीस की प्राप्ति, हदीसों की पड़ताल, रावियों की जिरह और तादील (जाँच) और रिजाल (रावियों) के बारे में मालूमात जमा करने की ख़ातिर जो लम्बे और कठिन सफ़र किए उन सबकी दास्तान न सिर्फ़ दिलचस्प और हैरत-अंगेज़ है, बल्कि इल्मे-हदीस के इतिहास का एक बड़ा नुमायाँ और अनोखा अध्याय है।

तदवीने-हदीस (हदीसों का संकलन)-हदीस लेक्चर 7
तदवीने-हदीस (हदीसों का संकलन)-हदीस लेक्चर 7
12 December 2023
Views: 76

तदवीने-हदीस (हदीसों के संकलन) के विषय पर चर्चा का उद्देश्य उस प्रक्रिया का एक सारांश बयान करना है जिसके परिणामस्वरूप हदीसों को इकट्ठा किया गया और किताब के रूप में संकलित करके हम तक पहुँचाया गया। संभव है कि आप में से जिसके ज़ेहन में यह ख़याल पैदा हो कि तदवीने-हदीस का विषय तो चर्चा के आरंभ में होना चाहिए था और सबसे पहले यह बताना चाहिए था कि हदीसें कैसे मुदव्वन (संकलित) हुईं और उनकी तदवीन (संकलन) का इतिहास क्या था।

जिरह और तादील (हदीस लेक्चर -6 )
जिरह और तादील (हदीस लेक्चर -6 )
12 December 2023
Views: 77

इससे पहले इल्मे-इस्नाद और उससे संबंधित कुछ ज़रूरी मामलों पर चर्चा हुई थी और उसमें कहा गया था कि ख़ुद पवित्र क़ुरआन और अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) की सुन्नत के अनुसार यह बात ज़रूरी है कि अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) से जो चीज़ जोड़ी जाए, वह हर तरह से निश्चित और यक़ीनी हो। उसमें किसी शक-सन्देह की गुंजाइश न हो और हर मुसलमान जो क़ियामत आने तक धरती पर आए उसको पूरे इत्मीनान और सन्तुष्ट दिल के साथ यह बात मालूम हो जाए कि अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने इसके लिए क्या बात कही है। क्या चीज़ जायज़ क़रार दी है, क्या नाजायज़ ठहराई है। किन चीज़ों पर ईमान लाना उसके लिए अनिवार्य क़रार दिया गया है और किन चीज़ों के बारे में उसको आज़ादी दी गई है।

इल्मे-इस्नाद और इल्मे-रिजाल (हदीस लेक्चर-5)
इल्मे-इस्नाद और इल्मे-रिजाल (हदीस लेक्चर-5)
12 July 2022
Views: 881

इल्मे-इस्नाद और इल्मे-रिजाल आज की चर्चा का शीर्षक है। इल्मे-इस्नाद और इल्मे-रिजाल,  इन दोनों का आपस में बड़ा गहरा संबंध है। ‘इस्नाद’ से मुराद है किसी हदीस की सनद (प्रमाण) बयान करना। जबकि सनद से मुराद है रावियों (उल्लेखकर्ताओं) का वह सिलसिला जो हदीस के आरंभिक रावी से लेकर अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) तक पहुँचता है। रावी कौन लोग हों, उनका इल्मी (ज्ञान संबंधी) दर्जा क्या हो, उनकी दीनी (धार्मिक) और वैचारिक प्रतिभा क्या हो, उसकी जो शर्तें हैं उनपर इससे पहले विस्तार से चर्चा हो चुकी है। लेकिन अभी यह चर्चा बाक़ी है कि रावियों के हालात जमा करने का काम कब से शुरू हुआ, किस प्रकार ये हालात जमा किए गए, और किसी रावी के स्वीकार्य या अस्वीकार्य या ज़ाबित (हदीस ग्रहण करने योग्य) या उसमें असमर्थ होने का फ़ैसला किस आधार पर किया जाता है। यह वह इल्म (ज्ञान) है जिसको इल्मे-अस्माउर्रिजाल या इल्मे-रिजाल के नाम से याद किया जाता है।

इल्मे-रिवायत और हदीस के प्रकार (हदीस लेक्चर-4)
इल्मे-रिवायत और हदीस के प्रकार (हदीस लेक्चर-4)
02 July 2022
Views: 760

इल्मे-हदीस बुनियादी तौर पर दो हिस्सों में बंटा हुआ है। एक हिस्सा वह है जिसको ‘इल्मे-रिवायत’ कहते हैं और दूसरा हिस्सा वह है जिसको ‘इल्मे-दिरायत’ कहते हैं। इल्मे-रिवायत में उस ज़रिये या माध्यम से बहस होती है जिसके द्वारा कोई हदीस अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) से लेकर हम तक पहुँची हो।

हदीस और सुन्नत - शरीअत के मूलस्रोत के रूप में (हदीस लेक्चर-3)
हदीस और सुन्नत - शरीअत के मूलस्रोत के रूप में (हदीस लेक्चर-3)
24 June 2022
Views: 682

डॉ. महमूद अहमद ग़ाज़ी [ये ख़ुतबात (अभिभाषण) जिनकी संख्या 12 है, इस में इल्मे-हदीस (हदीस-ज्ञान) के विभिन्न पहुलुओं पर चर्चा की गई है । इसमें इल्मे-हदीस के फ़न्नी मबाहिस (कला पक्ष) पर भी चर्चा है । इलमे-हदीस के इतिहास पर भी चर्चा है और मुहद्दिसीन (हदीस के ज्ञाताओं) ने हदीसों को इकट्ठा करने, जुटाने और उनका अध्ययन तथा व्याख्या करने में जो सेवाकार्य किया है, उनका भी संक्षेप में आकलन किया गया है।]

इल्मे-हदीस - आवश्यकता एवं महत्व (हदीस लेक्चर-2)
इल्मे-हदीस - आवश्यकता एवं महत्व (हदीस लेक्चर-2)
07 June 2022
Views: 674

इल्मे-हदीस की आवश्यकता तथा इसके महत्व पर चर्चा दो शीर्षकों से की जा सकती है। एक शीर्षक जिसपर आज चर्चा करना मेरा उद्देश्य है, वह इल्मे-हदीस की आम ज़रूरत और इस्लामी ज्ञान एवं कला में विशेषकर तथा मानवीय चिंतन के क्षेत्र में आम तौर पर उसके महत्व का मामला है। दूसरा पहलू इस्लामी क़ानून और शरीअत के एक मूलस्रोत के रूप में हदीस और सुन्नत के महत्व एवं स्थान का है। इस्लाम का हर अनुयायी जानता है कि पवित्र क़ुरआन और सुन्नते-रसूल मुसलमानों के लिए शरीअत (इस्लामी धर्म-विधान) और क़ानून बनाने का सर्वप्रथम तथा आरंभिक स्रोत है। सुन्नत पवित्र क़ुरआन के साथ शरीअत का स्रोत किस प्रकार है? किन मामलों में यह स्रोत है? इससे अहकाम (आदेश एवं निर्देश) कैसे निकाले जाते हैं? इसपर कुछ विस्तार से आगे चर्चा होगी।

इल्मे-हदीस - एक परिचय (हदीस लेक्चर-1)
इल्मे-हदीस - एक परिचय (हदीस लेक्चर-1)
19 May 2022
Views: 186

आज की चर्चा का विषय है— इल्मे-हदीसः एक परिचय। इल्मे-हदीस के परिचय की आवश्यकता इसलिए पड़ती है कि आम तौर से मुसलमान हदीस से तो परिचित होता है, उसको यह भी मालूम होता है कि हदीस क्या है? और इस्लाम में हदीस का महत्व क्या है? लेकिन बहुत-से लोगों को यह पता नहीं होता कि कलात्मक दृष्टि से इल्मे-हदीस का क्या अर्थ है? हदीस और उससे मिलती-जुलती इस्तिलाहात (पारिभाषिक शब्दों) का अर्थ क्या है? इन इस्तिलाहात का प्रयोग इल्मवालों के यहाँ किन-किन अर्थों में हुआ है? यह और इस प्रकार की बहुत-सी कला-संबंधी जानकारी ऐसी है जिसे बहुत-से लोग अनजान हैं। इस अनभिज्ञता के कारण बहुत-सी समस्याएँ और ख़राबियाँ पैदा होती हैं।

पैग़म्बर  की बातें
पैग़म्बर की बातें
23 March 2020
Views: 196

मौजूदा हालात में ज़रूरत महसूस की जा रही है कि अल्लाह के आख़िरी पैग़म्बर (अन्तिम ईशदूत) हज़रत मुहम्मद (सल्ल०) की शिक्षाओं (हदीसों) का एक ऐसा संग्रह प्रकाशित किया जाए जिससें आम लोग शिक्षाओं को जान सकें। प्रस्तुत पुस्तक ‘‘पैग़म्बर (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) की बातें'' को तैयार करने का उदे्दश्य भारत के लाखों-करोड़ों भाइयों और बहनों को यह बताना है कि हज़रत मुहम्मद (सल्ल०) किसी ख़ास देश और क़ौम के लिए नहीं, बल्कि समस्त मानवजाति के लिए पैग़म्बर (ईशदूत) बनाए गए थे। उनकी शिक्षाएं, जिन्हें हदीस कहा जाता है केवल मुसलमानों के लिए नहीं हैं, बल्कि इसमें समस्त मानवजाति को जीवन गुज़ारने का तरीक़ा सिखाया गया है। इस पुस्तक में कुछ ऐसी हदीसों को इकट्ठा किया गया है जो यह बतीती हैं कि समाज में रहने वाले हरेक व्यक्ति का एक-दूसरे पर कुछ अधिकार है, और एक-दूसरे के प्रति कुछ कर्तव्य और ये अधिकार और कर्तव्य धर्म, जाति, रंग, वंश, क्षेत्रीयता आदि में सीमित नहीं हैं। इसमें शामिल विषयों को देखकर पढ़नेवाले ख़ुद महसूस करेंगे कि यह किताब वक़्त की एक अहम ज़रूरत है।

हदीस: एक परिचय
हदीस: एक परिचय
14 March 2020
Views: 205

इस्लामी परिभाषा में ‘हदीस', पैग़म्बर मुहम्मद (सल्ल॰) के कथनों, कर्मों, कार्यों को कहते हैं। अर्थात् 40 वर्ष की उम्र में ईश्वर की ओर से सन्देष्टा, (पैग़म्बर) नियुक्त किए जाने के समय से, देहावसान तक, आप (सल्ल॰) ने जितनी बातें कीं, जितनी बातें दूसरों को बताईं, जो काम किए उन्हें इस्लाम की शब्दावली में हदीस कहा जाता है। क़ुरआन के साथ-साथ हदीस भी इस्लाम का मुख्य स्रोत है। क़ुरआन में जो नियम लंक्षेप में दिए गए हैं, उनकी व्याख्या और वर्णन हदीसों में हैं। इस लेख में हम देखेंगे कि हदीस क्या हैं, इनका क्या महत्व है और इनके महत्वपूरण संग्रह कौन कौन से हैं।