Hindi Islam
Hindi Islam
×

Type to start your search

सीरत

Found 4 Posts

नबी (सल्ल.) की तत्वदर्शिता और सुशीलता
नबी (सल्ल.) की तत्वदर्शिता और सुशीलता
26 March 2024
Views: 127

मानव-लोक में आज सत्य और सच्चाई की कोई आवाज़ सुनाई देती है तो वह मनुष्य के अपने व्यक्तिगत सोच-विचार और तपश्चर्या का फल नहीं, बल्कि वह उन महान विभूतियों का उपकार है और उन्हीं की प्रतिध्वनि है, जिन्हें संसार नबी, पैग़म्बर या रसूल के नाम से याद करता आया है।उन महापुरुषों ने जब इस बात की घोषणा की कि उन्हें सत्य का ज्ञान प्रदान किया गया है तो इस घोषणा से उनके जिस उच्च कोटि के विश्वास का पता चलता है वह हमें दूसरों के यहाँ नहीं मिलता।

क्रान्ति-दूत हज़रत मुहम्मद (सल्ल.)
क्रान्ति-दूत हज़रत मुहम्मद (सल्ल.)
26 March 2024
Views: 176

क्रान्ति-दूत हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) नईम सिद्दीक़ी की महान पुस्तक ‘मुहसिने इन्सानियत’ का संक्षिप्त संसकरण है। पहले इसे लेखक द्वारा रेडियो पर प्रसारित किया गया। रेडियो प्रसारण का यह सिलसिला तीस एपिसोड पर आधारित था। बाद में स्वयं लेखक ने कुछ संपादन के साथ पुस्तक का रूप दे दिया। इसमें मुख्य रूप से हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) द्वारा लाई गई विश्व व्यापी और अमर क्रांति पर चर्चा की गई है।

हज़रत मुहम्मद (सल्ल॰) और भारतीय धर्म-ग्रंथ
हज़रत मुहम्मद (सल्ल॰) और भारतीय धर्म-ग्रंथ
12 March 2020
Views: 244

सत्य हमेशा स्पष्ट होता है। उसके लिए किसी तरह के प्रमाण की ज़रूरत नहीं होती। यह बात और है कि हम उसे न समझ पाएं या कुछ लोग हमें उससे दूर रखने की कोशिश करें। अब यह बात छिपी नहीं रही कि वेदों, उपनिषदों और पुराणों में इस सृष्टि के अंतिम पैग़म्बर (संदेष्टा) हज़रत मुहम्मद (सल्ल॰) के आगमन की भविष्यवाणियां की गई हैं। मानवतावादी सत्यगवेषी विद्वानों ने ऐसे अकाट्य प्रमाण पेश कर दिए, जिससे सत्य खुलकर सामने आ गया है।

अन्तिम ऋषि
अन्तिम ऋषि
06 March 2020
Views: 348

इन्सान को ज़िन्दगी जीने के लिए ज्ञान और जानकारी की ज़रूरत होती है। उसका बडा हिस्सा उसकी पांच ज्ञानेन्द्रियों - आंख, कान, नाक, जीभ, और त्वचा के माध्यम से उसे हासिल हो जाता है। इसके साथ ही ईश्वर ने उसे बुद्धि, विवेक और चेतना की शक्ति भी दी है जिसके द्वारा वह उचित या अनुचित, लाभ या हानि को परखता है। बात ज्ञानेंद्रियों की हो या बुद्धि-विवेक की सब जानते हैं कि ये मनुष्य ने अपनी कोशिश, मेहनत, सामर्थ्य या इच्छा से प्राप्त नहीं किया है, बल्कि ये ईश्वर द्वारा प्रदान किये गए हैं। दूसरी ओर यह भी सच्चाई है कि केवल पांच ज्ञानेन्द्रियों और बुद्धि के सहारे ही जीवन के सारे फ़ैसले नहीं किए जा सकते। केवल इन आधारों पर किए फैसले कभी बहुत ग़लत, बड़े हानिकारक और घातक भी हो सकते हैं। अर्थात जीने के लिए उपरोक्त साधनों के अतिरिक्त भी किसी साधन से ज्ञान लेने की आवश्यकता है। ज्ञानेन्द्रियों और बुद्धि-विवेक की पहुंच से आगे का ज्ञान मनुष्य तक पहुंचाने के लिए ईश्वर ने मनुष्यों में से ही कुछ को चुन कर अपना दूत, सन्देष्टा, प्रेषित, रसूल, नबी, पैग़म्बर या Prophet बनाया और इनके माध्यम से मनुष्यों को वह ज्ञान दिया, जो बहुत महत्वपूर्ण हैं। ईशदूतों का यह सिलसिला लम्बे समय तक चलता रहा। फिर जब दुनियावालों तक पर्याप्त ज्ञान पहुंच गया और ज्ञान को सुरक्षित रखने की व्यवस्था भी हो गई तो ईश्वर ने अंतिम रसूल हज़रत मुहम्मद पर यह सिलसिला बंद कर दिया।